TOXIC SONG LYRICS-BADSHAH

TOXIC SONG LYRICS-BADSHAH

TOXIC SONG LYRICS IN HINDI टॉक्सिक गाना गाया है Badshah & Payal Dev ने और इस इस खूबसूरत गाने को बादशाह ने लिखा है और पायल ने कंपोज किया है। TOXIC SONG LYRICS लिखा है बादशाह ने और इस गाने का अभिनय किया है Sargun Mehta , Ravi Dubey, Badshah & Payal Dev ने।

TOXIC SONG LYRICS-BADSHAH

Song: Toxic
Artist: Badshah & Payal Dev
Feat. : Sargun Mehta, Ravi Dubey, Badshah & Payal Dev.
Lyrics : Badshah
Compose : Payal Dev
Label : Sony Music India

TOXIC SONG LYRICS IN HINDI

जब तू नहीं था यहाँ
तो गम नहीं था आदत तेरी लगने तक सब कुछ सही था
आया तू जिंदगी में बन के सितम सा हा एक सितम सा
इक तेरे प्यार में ऐसे दिए जखम ना ही तो जी सके ना ही मरे है हम
इक तेरे प्यार में

जिस दिन पहली बार देखा तुझको ,कोसु उस दिन को मैं
क्यू लड़ते हो इसका जवाब दू क्यू तुमको मैं
आँखें चेहरे में धस गयी है कोई रौनक नही
लगता हूँ साइको मिलता हूँ जिन जिन को मैं

छोटी छोटी बात पे लड़ने का मन करे
जिस भी मिलु मैं जकड़ने का मन करे
रहती एक एंग्जायटी सी २४ घंटे मरने का मन करे

क्यू है इतनी गन्दगी,ना तुझको पता,ना मुझको पता
कुछ तो बचा है कि तेरे मेरे बीच में ,तू ये मुझको बता

मैं तुझसे प्यार करना चाहता हु पर और नही हो पा रहा
आँखे सूज गयी है मेरी और नहीं रो पा रहा

चाहता हु की आँशु आये आने बंद हो गए है
तुझको छह के भेजू रस्ते सारे बंद हो गए है

लड़ना नही चाहता हु खाके कहता हु कसम
इस बहाने अपने में कुछ तो रहेगा सितम

तु मुझको गाली दे मुझपे चिल्लाये मुझपे चीखे तू
लड़की घर से बहार जाये मैं आउ तेरे पीछे

वत्स अप्प पे मुझको और मेरी फॅमिली को ब्लॉक कर
मुझको गन्दी गन्दी बातें बोल खुद को रूम में लॉक कर

मैं खड़काता रहु दरवाजा और तू खोले ना
मैं खोलने को बोलता रहु और तू कुछ बोले ना

तूने ये किया तो मैं ये कर लूंगा हम चिल्लाये
दोनों की एक दूजे की फिर गलतिया हम ढुँढ़वाये
हर दफा रोते रोते रोते दोनों सो जाये
क्यू ना हम एक दूजे से फिर अनजाने हो जाये

छोटी छोटी बातें अब अंदर से खाने लगी है
जान मेरी अब मेरी अंदर से जाने लगी है
तू नौ महीने की डीवीडी हर दिन आने लगी है

पहले प्यार आया करता था अब घिन आने लगी है
पहले प्यार आया करता था अब घिन आने लगी है
पहले प्यार आया करता था अब घिन आने लगी है

इक तेरे प्यार में ऐसे दिए जखम ना ही तो जी सके, ना ही मरे है हम
इक तेरे प्यार में
इक तेरे प्यार में ऐसे दिए जखम ना ही तो जी सके, ना ही मरे है हम
इक तेरे प्यार में

हमीं ने बनाया जो जो हमीं से बिखर गया
अब नयी ईंटों से वही नया आशियाना बनाये

Written By-Badshah

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *